डॉलर और रुपए में मुकाबला चल रहा है और डॉलर रोज नीचे लुढ़का रहा है। अब शुक्रवार दिन के 12 बजे तक डॉलर के 71.87 रुपये पहुँच चुका है।

केडिया कमोडिटी के प्रमुख अजय केडिया की माने तो ‘अगर यही हाल रहा तो रुपया 75 का स्तर भी छू सकता है’।

उन्होंने रुपये की स्थिति चिंताजनक बताते हुए कहा कि ‘अगर सितंबर तिमाही की बात करें तो रुपया 73.67 से 74 की रेंज में कारोबार करता नजर आ सकता है।’

जब 65 रुपए में पेट्रोल मिलता था तो मीडिया इसे ‘महंगाई डायन’ बताती थी, अब 85 रु का हो गया फिर भी सब चुप हैं

वहीँ इस मामले पर आम आदमी पार्टी विधायक अलका लांबा ने सोशल मीडिया पर मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि जब एक अर्थशास्त्री को हटा कर फ़र्जी डिग्री वाले को देश सोपेगें तो परिणाम कुछ ऐसा ही आयेगें।

गौरतलब हो की आरबीआई इस गिरावट को थामने के लिए डॉलर की बिक्री शुरू कर सकता है।

मीडिया में आई रिपोर्ट्स के मुताबिक आरबीआई अभी तक करीब 22 बिलियन डॉलर का फॉरेक्स रिजर्व का इस्तेमाल कर चुका है।

हमें रुपए की चिंता नहीं लेकिन प्रधानमंत्री की गरिमा का क्या करूँ जो लगातार रुपए के साथ गिरे जा रही है : SP नेता

अब अगर विशेषज्ञो की माने तो सरकार अपने विदेशी मुद्रा भंडार में जमा डॉलर की निकासी कर सकती है और रुपये की ढहती स्थिति को थोड़ा सहारा दे सकती है।