शराब कारोबारी विजय माल्या संग अरुण जेटली की मुलाकात पर अब कांग्रेस का हमला जारी है। अब फिर अब कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने प्रेस कांफ्रेंस करते हुए मोदी सरकार पर निशाना साधा है।

सुरजेवाला ने कहा लगता है भाजपा आजकल माल्या उड़, मेहुल चोकसी उड़, नीरव मोदी उड़ का खेल खेल रही है।

सुरजेवाला ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी और वित्त मंत्री जेटली की रहस्यमयी चुप्पी अपराध की स्वीकारोक्ति की ओर ईशारा करती है। उन्होंने कहा कि अरुण जेटली 30 महीनों तक 1 मार्च को विजय माल्या से हुई मुलाकात पर चुप्पी क्यों साधे हुए थे।

जब माल्या लंदन भाग गया तब सीबीआई उसे पहले क्यों नहीं पकड़ पाई तो सीबीआई की इस नाकामी मानी है तो प्रधानमंत्री कैसे ज़िम्मेदार नहीं है?

माल्या के भागने से पहले CBI ने आसान किया था उसके निकलने का रास्ता, क्या पहले से ही भगाने की तैयारी में थी मोदी सरकार!

कांग्रेस प्रवक्ता ने सवाल किया कि यदि प्रधानमंत्री अब भी कार्रवाई नहीं करते हैं तो ये साबित हो जाएगा कि ‘चौकीदार’ भागीदार नहीं बल्कि गुनहगार हैं। उन्होंने कहा कि देश जानना चाहता है कि विजय माल्या को भगाने के पूरे षडयंत्र का आर्किटेक्ट कौन है?

सुरजेवाला ने कहा कि 16 अक्टूबर को सीबीआई गिरफ्तारी का लुकआउट नोटिस जारी करती है, लेकिन क्या कारण था कि उस गिरफ्तारी के नोटिस को बदलकर जानकारी देने वाला नोटिस कर दिया।

आखिर मोदी सरकार में वो कौन शख्स है जो एसबीआई और दूसरे बैंकों को इस बात के लिए मजबूर कर रहा था वो 29 फरवरी को सुप्रीम कोर्ट में केस दर्ज न करें?

विजय माल्या ने संसद में अरुण जेटली को बताया था कि वह लंदन के लिए रवाना हो रहा हैः सुब्रह्मण्यम स्वामी

सुरजेवाला ने कहा कि तत्कालीन अटार्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने कल कहा है कि विजय माल्या को किसी ने राय दी थी कि वो देश से भाग जाए; वो कौन व्यक्ति है जो माल्या को देश छोड़कर भाग जाने की राय दे रहा था?

बता दें कि मार्च 2016, में विजय माल्या भारत छोड़कर भागे थे। उस समय वित्त मंत्री अरुण जेटली ही थे। इस से पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी आरोप लगा चुके हैं कि माल्या भारत छोड़ने से पहले वरिष्ठ भाजपा नेता से मिले थे। केंद्र सरकार पर इस से पहले भी माल्या की मदद करने के आरोप लग चुके हैं।