‘गिरती अर्थव्यवस्था का कारण मोदी सरकार की गलत नीति है।’ ऐसा कहना है बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी का जिन्होंने पुणे में आयोजित कार्यक्रम में ये बात कही। स्वामी ने कहा कि पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के कार्यकाल में अपनाई गईं “गलत नीतियां” अर्थव्यवस्था में सुस्ती के लिए जिम्मेदार हैं।

ब्याज दर बढ़ाने को लेकर आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन की आलोचना का हवाला देते हुए स्वामी ने कहा कि मेरा मानना है कि जेटली के कार्यकाल के दौरान अपनाई गईं गलत नीतियां– जैसे अधिक कर लगाना अर्थव्यवस्था में सुस्ती का एक कारण है। ये नीतियां अभी भी लागू हैं। रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन का नीतिगत दरें बढ़ाना भी सुस्ती के कारणों में से एक है।

गिरती अर्थव्यवस्था से ध्यान हटाने के लिए कश्मीर का मुद्दा उठाया गयाः साक्षी जोशी

बता दें कि वाहनों की बिक्री जुलाई में 31 प्रतिशत की गिरावट के साथ 19 साल के निचले स्तर पर आ गई। केवल वाहन उद्योग ही नहीं बल्कि दूसरे उपभोक्ता उत्पादों के क्षेत्र में सुस्ती देखी जा रही है।

उद्योग बजट में उठाए गए कुछ कदमों को भी वापस लेने की मांग कर रहा है। इसमें विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों पर लगाया गया अति धनाढ्य पर लगने वाला ऊंचा अधिभार भी शामिल है।

जो ‘कश्मीर’ में प्लाट देख रहे हैं वो मोदीराज में डूब रही ‘अर्थव्यवस्था’ को क्यों नहीं देख पा रहे हैं

उल्लेखनीय है कि आम बजट पारित होने के बाद से शेयर बाजार में भारी गिरावट देखी गई। बजट से विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों की धारणा को झटका लगा है।