भारतीय बैंकों को हज़ारों करोड़ की चपत लगाने वाले उद्योगपति विजय माल्या के वित्त मंत्री अरुण जेटली से भारत छोड़ने से पहले मुलाकात वाले बयान के बाद सीधे तौर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की भूमिका पर सवाल उठ रहे हैं।

विपक्ष के साथ-साथ सोशल मीडिया पर अब ‘चौकीदार पीएम’ पर बहस होने लगी है। जगजाहिर है कि कई मौकों पर खुद पीएम मोदी ने अपने आपको देश का चौकीदार कहा है।

जब वित्त मंत्री को पता था ‘विजय माल्या’ लंदन भाग रहा है तो CBI और ED को क्यों नहीं बताया? राहुल गांधी

इसी कड़ी में ट्विटर पर कॉमेडियन कुणाल कामरा ने लिखते हुए पीएम मोदी कि चौकीदारी पर ही सवाल उठाए हैं। कुणाल ने ‘चौकीदार’ और ‘दरबान’ में फर्क बताते हुए लिखा है की, “चौकीदार और दरबान में फर्क होता है मोदीजी।

चौकीदार माल्या को रोक लेता और दरबान गेट खोलकर सल्यूट करता, बक्शीश लेता और जाने देता।”

कुणाल ने आगे पीएम मोदी से पूछा है कि अब आप ही बताओ आप चौकीदार हो या दरबान?

माल्या ने लंदन की कोर्ट के बाहर बुधवार को खुलासा करते हुए कहा था कि भारत छोड़ने से पहले उसने मामला सुलझाने के लिए वित्त मंत्री (अरुण जेटली) से मुलाकात की थी।

विजय माल्या ने संसद में अरुण जेटली को बताया था कि वह लंदन के लिए रवाना हो रहा हैः सुब्रह्मण्यम स्वामी

यह चौकाने वाली बात है की वित्त मंत्री और सीबीआई प्रधानमंत्री को सीधे रिपोर्ट करते हैं ऐसे में विजय माल्या संसद भवन के सेंट्रल हॉल में सरकार के कद्दावर मंत्री से मिलने के बाद देश छोड़कर भाग जाता है।

लेकिन, वित्त मंत्री अरुण जेटली सीबीआई और ईडी को खबर तक नहीं करते। वरना माल्या को पकड़ने में इतनी मशक्कत नहीं करती पड़ती। ये सब घटना तब हुई जब विजय माल्या के घोटाले की बात उजागर हो चुकी थी।

वहीं विपक्षी नेता विजय माल्या के आए बयान से पहले से ही बोलते आ रहे थे कि उसे विदेश भागने में जरुर केंद्र सरकार ने मदद की है। वरना बैंकों का हजारों करोड़ रुपए लेकर विदेश भागना इतना आसान नहीं है वो भी घोटाले के उजागर होने के बाद!