पिछले कुछ महीनों के मुकाबले अगस्त में जीएसटी संग्रह में कमी आई है। ये गिरकर 93,960 करोड़ रुपये हो गया, जबकि अप्रैल में 1.03 लाख करोड़ रुपये का जीएसटी संग्रह हुआ था। चार महीने में लगभग 7000 करोड़ रुपए की गिरावट जीएसटी संग्रह में आई है।

मंत्रालय ने कहा है कि गिरावट का कारण 21 जुलाई को जीएसटी परिषद द्वारा सेनेटरी नैपकीन, जूते-चप्पल, फ्रिज, छोटे स्क्रीन के टीवी, वाशिंग मशीन सहित 88 वस्तुओं, उत्पादों पर कर दरों में की गई कमी है। संबंधित उत्पादों पर जीएसटी की नई दरें 27 जुलाई से प्रभावी हुई हैं।

अगस्त में राजस्व प्राप्ति जुलाई और जून महीने के संग्रह की तुलना में कमी आई है। अप्रैल में 1.03 लाख करोड़ रुपये था, उसके बाद जून में 95,610 करोड़ रुपये और जुलाई में 96,483 करोड़ रुपए का जीएसटी संग्रह हुआ था।

अनुमान है कि कर की दरों में गिरावट के बाद दाम घटने की उम्मीद में बाजार में कुछ समय के लिए उनकी बिक्री संभवत: कम हुई जिससे राजस्व वसूली पर असर हुआ होगा।